Breaking News
हीटवेव से जूझ रहे देश के अधिकाशं हिस्से, 41,789 लोग हीटस्ट्रोक से पीड़ित
जल संरक्षण और संवर्द्धन को जल आंदोलन के रूप में लिया जाए- सीएम
सीएम केजरीवाल को जमानत देने के आदेश के खिलाफ ईडी ने उच्च न्यायालय का किया रुख, अब सुनवाई करेगा हाईकोर्ट 
योग हमें स्वावलंबन की सनातन परंपरा से जोड़ता है- महाराज
क्रू ने बनाया रिकॉर्ड, बनी 2024 में नेटफ्लिक्स पर सबसे ज्यादा देखी गई भारतीय फिल्म
सीएम धामी ने आदि कैलाश में किया योग 
पूरी रात सोने से बाद भी सुबह बेड से उठने का मन नहीं करता है तो आपको है ये गंभीर परेशानी…जानिए
देवभूमि में आज बही योग की गंगा, मुख्यमंत्री सहित मंत्री, विधायकों, शहरवासियों व गांववासियों ने किया योग
देहरादून कैंट रोड के चौड़ीकरण में अब नही कटेगा एक भी पेड़, सीएम धामी ने दिए निर्देश

बद्रीनाथ आगमन पर सीएम धामी को स्थानीय समस्याओं से कराया रूबरू

महापंचायत ने कहा, विभागों में तालमेल की कमी

बद्रीनाथ। उत्तराखण्ड चार धाम तीर्थ पुरोहित महापंचायत बद्रीनाथ आगमन पर सीएम धामी को स्थानीय समस्याओं से रूबरू कराया।महापंचायत के महासचिव डॉ बृजेश सती ने मुख्यमंत्री को बताया कि बदरीनाथ स्थित गांधी घाट से लेकर ब्रह्म कपाल तक नदी के किनारे सुरक्षा के इंतजाम नहीं हैं ,जिससे कभी भी कोई अप्रिय घटना घट सकती है। इसके अलावा उन्होंने बदरीनाथ मंदिर में वरिष्ठ नागरिको और अशक्त लोगों को दर्शन की विशेष व्यवस्था किए जाने की मांग की।

बदरीनाथ धाम में टोकन व्यवस्था में सुधार के साथ ही सम्बन्धित विभागों में समन्वय की कमी की बात भी कही। उन्होंने नमामि गंगे के तहत किए जा रहे कार्यों पर भी मुख्यमंत्री का ध्यान आकर्षित कराया। इससे पूर्व, मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के बदरीनाथ आगमन पर तीर्थ पुरोहितों, ज्योर्तिमठ के आचार्यों ,मंदिर समिति के पदाधिकारी के अलावा ने उनकी अगवानी एवं स्वागत किया। ज्योतिर्मठ जगत गुरुकुलम के छात्रों ने वैदिक मंत्रों चार के बीच मुख्यमंत्री का स्वागत किया।

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने भगवान बदरीविशाल के दर्शन किए । मध्याह्न के महाभोग के बाद की आरती के मंगलमय दर्शन करने के बाद लक्ष्मी देवी जी की पूजा आरती की । भगवान बदरीविशाल के मुख्य पुजारी ईश्वरप्रसाद नम्बूदरी से मिलकर उनका कुशलक्षेम जाना ।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने ज्योतिष्पीठाधीश्वर जगद्गुरु शङ्कराचार्य स्वामिश्रीः अविमुक्तेश्वरानन्दः सरस्वती महाराज के शिष्य मुकुन्दानन्द ब्रह्मचारी से आत्मीय संवाद किया ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top